शनिवार, 20 अप्रैल 2013

जिम्मेदार हम भी हैं !

                   रोज रोज की घटनाएँ हमें क्या दिखा रही हैं? हमारी ही तस्वीर , जिसे हम खुद गढ़ रहे हैं . दोष अगर हम अपने बच्चों को  दें तो फिर हम से अधिक समझदार  और कोई हो ही नहीं सकता है . कभी कभी तो हम उसका दोष दूसरों भी मढ़ने से नहीं चूकते है .
                             मेरी एक मित्र खुद बहुत अच्छे पद पर हैं और पतिदेव भी . बड़ा बेटा वाकई योग्य निकला और वह इंजीनियरिंग के बाद आइ ए  एस  बन गया .  जरूरी तो नहीं कि  सारे बच्चे एक ही तरह के निकलें . छोटा बेटा अभी अभी बालिग़ होने वाला है लेकिन उसके हाथ में गाड़ी है और खर्च करने के लिए पैसे भी . दोस्तों की फौज होना तो बड़े घर के बच्चों की शान ही होती है.
                             एक रात शराब पीकर गाड़ी चलते हुए एक्सीडेंट कर दिया और तुरंत पकड़ में भी आ गए क्योंकि एक्सीडेंट थाने  के आस पास ही हुआ था . पुलिस ने उन्हें साथियों सहित  बंद कर दिया  वो रात में पहले पुलिस वालों को डराने का प्रयास करता रहा कि  मेरे पापा ये हैं और मेरा भाई ये है लेकिन शायद पुलिस वाले उस समय  विश्वास नहीं कर रहे होंगे और उन्होंने छोड़ा नहीं और समाचार अखबार में आ गया . जब मैंने पढ़ा तो मेरी समझ आ गया कि  ये बिगड़े हुए नवाब कौन है? लेकिन दूसरे ही दिन के बाद इस खबर का कोई आगे का  हाल नहीं मिला कि पुलिस ने केस फाइल किया भी या नहीं और फिर कोई समाचार नहीं मिला . मैंने तो उसके घर जाना उचित नहीं समझा  क्योंकि हो सकता है कि वे समझें कि लोग उनके उपहास के लिए पूछने आ रहे हैं .
                      इस बिगड़े हुए बेटे के कार्य कलापों में क्या माता - पिता की कोई भी भूमिका नहीं है ? है  और शत प्रतिशत वे इसके लिए जिम्मेदार है . माना आप बहुत अच्छे और सम्मानीय लोग है लेकिन इस घटना के बाद एक मैं क्या उनके जानने वाले करीब करीब सभी लोगों ने यही कहा होगा की बच्चों की परवरिश हम पूरी पूरी सुख और सुविधा अपनी हैसियत के अनुसार देते ही हैं लेकिन जब हम उनकी नाजायज मांगों को मान लेते हैं या फिर बच्चे को अपने स्टेटस के अनुसार रखने की सोच बना लेते हैं तो वह हमारे लिए ही भारी पड़ता है. हम व्यस्त है लेकिन कितना ? अपने बच्चे के लिये कुछ तो समय निकाल  ही सकते हैं . हम अपनी जीवन शैली में कुछ तो परिवर्तन कर सकते हैं, कितनी ही व्यस्तता हो फिर भी बच्चे की शिक्षा और उसके आचरण के प्रति आपको सजग रहना होगा . रोज न सही लेकिन कभी कभी तो आप उसके कॉलेज में जाकर उसके बारे में पता कर ही सकते है . अगर नहीं कर सकते हैं तो हम गैर जिम्मेदार अभिभावक कहे जाएंगे .
                       बच्चों को बाइक देना तो अब जरूरी समझा  जाने लगा है क्योंकि स्कूल उनके दूर दूर होते हैं और बाइक हाथ में आते ही उनके पीछे बैठने वाले दोस्तों की भी कमी नहीं रहती है.  वे सब किस आचरण के हैं उसका प्रभाव आपके बच्चे पर जरूर ही पड़ेगा . आप उसके मित्रों पर भी नजर रख सकते हैं . ऐसे मित्र कभी न कभी घर पर भी आते रहते हैं और आप अपने परिपक्व होने के साथ ऐसे लोगों को पहचानने की क्षमता रखते जरूर हैं . बच्चों के जेब खर्च को एक सीमा में रखिये . इतना भी न दीजिये कि वे दोस्तों के साथ होटलों या फिर रेस्टोरेंट में जाकर रोज पार्टियाँ करें , ड्रिंक पार्टी एक आम चलन हो चुक  है. जेब खर्च दीजिये लेकिन ऐसा नहीं कि  उसके दुरूपयोग से वे अपनी दिशा भटक जाएँ .
                       बच्चों में चाहे लड़कियाँ हों या फिर लडके घर वापस लौटने की भी एक सीमा निश्चित कीजिये कि  उन्हें इस समय तक घर आना ही होगा . पार्टियाँ बड़े घर के बच्चों की देर से शुरू होकर देर तक चलती हैं , ये आधुनिकता की निशानी आप मान सकते हैं लेकिन ये स्वस्थ मानसिकता की निशानी तो बिलकुल भी नहीं है.  ये नहीं कि  उनके लौटने की कोई समय सीमा ही न हो . कई बार माता - पिता अपने आराम को ध्यान में रखते हुए एक चाबी बेटे को भी दे देते हैं कि  अगर वे देर से लौटें तो उनकी नीद ख़राब न हो , लेकिन शायद वे ये भूल जाते हैं की सिर्फ कभी कभी नींद ख़राब होने को बचने के लिए आप जीवन भर के लिए अपने बच्चे को दिन का चैन और रात की नींद ख़राब करने की छूट दे रहे है .
                          उनका बच्चा रात दो बजे घर से बाहर  घूम रहा है और माता - पिता निश्चिन्त कैसे रह सकते हैं? मोबाइल तो हर बच्चे के पास होता है फिर कैसे उनकी स्वतन्त्रता पर अंकुश लगाने की बात एक समझदार माता पिता नहीं सोचते हैं . किशोरों का अमर्यादित आचरण सिर्फ इसी बात और छूट का परिणाम है की माता - पिता जरूरत से अधिक पैसे और ऐशो आराम के साधनों को बच्चों को सौंप देते है .
                          बच्चों के कमरे और उसमें सभी आधुनिक संसाधन होना  कोई  नई  बात नहीं है. फिर  कमरे में उन संसाधनों के दुरूपयोग को तो आप नहीं रोक सकते हैं . हर बच्चा इतना समझदार भी नहीं होता है कि  वह उसका उचित प्रयोग ही करे. सुविधाएँ प्रदान जरूर करें लेकिन उसके प्रयोग पर एक नजर भी रखना बहुत जरूरी होता है. जो संसाधन उन्हें प्रदान करें उसमें अपनी दखल भी बनायें ताकि उनके प्रयोग पर नजर रखी जा सके . ये कोई गलत काम करने की वजह से  नहीं  बल्कि हमारे बच्चे उस दौर से गुजर रहे  हैं जहाँ उनके भटक जाने की पूरी पूरी गुंजाइश होती है . उसे रोकने के लिए या दिशा भटकने से पहले ही हम उन्हें रोक सकते है .
     जिम्मेदार हम भी हैं !

बुधवार, 10 अप्रैल 2013

हौसले को सलाम ! (12)

   

                           संघर्ष अगर किसी के सहारे के रहते किया जाय तो   तो साथ  है  अगर मंजिलें बहुत बहुत दूर हों और एक औरत के खाली हाथ हों या फिर हाथ बंधें हों तो फिर उसकी विवशता को और उसमें फंसकर छटपटाते  उसके जीवन को कैसे ईश्वर राह दिखता है और वह भी उस मुकाम तक  दे  उसने कभी कल्पना ही न की हो. एक  ऐसी ही महिला की कहानी जो मिली भी तो सिर्फ कुछ घंटों के  लेकिन दे गयीं ये सब .....

                              आज की प्रस्तुति मेरी ही है. ............!







     वह भी मेरी ही तरह से एयर पोर्ट पर किसी को रिसीव करने के लिए बाहर से आई थी  और फ्लाइट लेट थी .   उनका बेटा आ रहा था और मेरी बेटी . वह छोटे कद की शालीन सी दिख रही थी .  समय तो  हमें गुजारना ही था .   अपनी आदत के अनुसार जब दो महिलायें बैठती हैं तो  एक दूसरे के  बारे में जानने के लिए उत्सुक होती है . कहाँ से हैं? किसे लेने आयीं है? कौन कौन है परिवार में ? आदि आदि . हम  भी इसके अपवाद न थे. लेकिन इतने थोड़े से समय में सब कुछ बता  देने के लिए किसी को मोटिवेट करना मेरे काम से जुडा है ,  उनके बारे में सब कुछ जान लिया .

                    वह एक बेटे और एक बेटी की माँ  - बेटा  वैज्ञानिक और बेटी इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसर . बेटा  विदेश से एवार्ड लेकर लौट  रहा था और उसकी इच्छा थी कि वह अपना एवार्ड माँ को दे और माँ उसको लेने के लिए आये. वह आई थी और उसका सिर गर्व से ऊंचा था . 
                     अपने  संघर्षों  की परछाईं उनकी नज़रों में नजर आ रही थी - जब वह हाई स्कूल कर चुकी तो गाँव के रिवाज के अनुसार उसकी शादी की बात शुरू हो गयी . रिवाज के अनुसार आस पास के रिश्तेदारों में वर खोजा जाता था और एक वर मिला वह इंजिनियर था . पहले कद देख कर उसने मना  कर दिया लेकिन बाद में हाँ कर दी और फिर शादी हो गयी . वह गाँव छोड़ कर शहर आ गयी , पति के पद के अनुसार उसे हर सुख -सुविधा मिली . वह जल्दी ही एक बेटे और बेटी की माँ  बन गयी।  पति अपने पद के अनुसार आय और सोसायटी के  अनुरूप पीने  भी लगे और उनको जल्दी ही डायबिटीज भी हो गयी लेकिन इस बारे में न उन्हें  और न ही मुझे इस बारे में कुछ पता था . सब कुछ वैसे ही चलता रहा और तब पता चला जब कि उनकी दोनों किडनी बेकार हो चुकी थीं . 
         सिर्फ सत्ताईस साल की उम्र में जब बेटा ५ और बेटी ३ साल की थी मेरी दुनियां उजड़ गयी .
                   गाँव से जेठ सारा सामान भर कर गाँव ले जाने के लिए आ गए . पति के ऑफिस में लिख कर दे दिया कि  मेरी बहू नौकरी नहीं करेगी और सब कुछ  लेकर गाँव आ गए . बिना पढ़े लिखे खेती वाले घर में - एक विधवा का जीवन  कैसा होता है? ये हर कोई नहीं जानता . मेरे घर के सारे सुख- सुविधा का सामान जेठ के कमरे  में लग गया और मुझे मिली एक कोठरी  जिसमें जमीन  पर एक दरी पड़ी होती और उस पर  अपने  दोनों बच्चों के साथ सोती . सुबह से घर के  काम मेरे जिम्मे सबके  के बाद जो भी बचता चाहे पेट भरे या नहीं खा कर रह  जाती . बेटा जानवरों के साथ खेतों में घूमता और बेटी मिटटी में  खेलती . वे बच्चे जो कभी गाड़ी के अलावा चले नहीं थे , रात में मेरे पास सोने आ जाते . रात में मैं बिस्तर पर पड़ी रोती कि  क्या जिन्दगी इतनी विरोधाभासी भी हो सकती है? आगे और पीछे अँधेरे के अलावा कुछ भी नजर नहीं आता था . 
                        एक दिन जेठ जी ने बेटे को कुछ माँगने पर पीटा  और कहा वैसे ही रह जैसे बिना बाप के बच्चे रहते हैं ये शब्द मेरे कानों में गर्म शीशे की तरह से घुल ही तो गए लेकिन मुझे जलालत  के सिवा कुछ भी हाथ नहीं आया  . उसी समय मेरी ननद  गाँव आई और  मेरे बच्चों और मेरी दुर्दशा होती देखी , वे  बड़ी थी और उन्होंने अपने पति से कहा  . वे मेरे पति के मित्र भी थे . उन्होंने हम तीनों  को वहाँ से निकाल  कर मेरे मायके भेज दिया . वहाँ पहुँच कर मैंने खुली हवा  में सांस ली लेकिन एक माँ  के लिए उसकी सबसे छोटी बेटी और वह भी विधवा हो तो  दिल पर क्या गुजरी  है ये उसके अलावा कोई और नहीं जान सकता .
                          मेरी ननद ने अपने बड़े भाई से बैर मोल लिया और पति के ऑफिस में  मेरी नौकरी के लिए बात की लेकिन मैं सिर्फ हाई स्कूल पास थी और मुझे क्लर्क की नौकरी के लिए भी टाइपिंग आनी चाहिए थी . मुझे एक महीने  का समय  दिया गया और मैं ऑफिस से आकर टाइपिंग सीखने  जाने लगी .  मेरी ननद मेरे साथ रही बच्चों को देखने के लिए . कुछ दिन में टाइपिंग सीखने के  दौरान मेरी दोस्ती एक लड़की से हुई  और वह मुझे अपने घर ले गयी . उसके घर में उसके तीन भाई और भाभी थे सबने मुझे उसकी ही तरह से घर में जगह दी . मेरे पति का सारा पैसा  मुझे दिलवाया और मेरे लिए अपने घर के करीब ही एक फ्लैट खरीदवा दिया . मैं ऑफिस जाती और बच्चे मेरे पीछे कॉलोनी में  रहते . मुझे नहीं पता कि  मेरे बच्चे समय के साथ इतने समझदार और गंभीर कैसे हो गये ? बेटा खुद पढ़ने  बैठता और बहन को भी लेकर बैठता .  खुद ट्यूशन  लेकर अपनी पढाई के लिए सारा सामान खुद जुटा लेता मुझसे कुछ नहीं कहता था . 
                मेरे देवर  और  जेठ ने कभी ये जानने की कोशिश नहीं की कि  मैं कहाँ हूँ ? जिन्दा भी हूँ या मर गयी . मेरे बच्चों का क्या हुआ ? मेरे हिस्से  की सारी  खेती दबा ली . मेरी आमदनी अधिक नहीं थी किसी तरह से बच्चों को पाल ही रही थी . बेटे ने स्कालरशिप लेकर अपनी ही नहीं बल्कि अपनी बहन को भी पढाई के लिए प्रेरित किया और एम टेक करवाया और उसकी शादी में भी पूरी जिम्मेदारी उठाई .
                     उसके सपने कैसे पंख  लगा कर ऊँचाइयों पर जा पहुंचे मुझे पता नहीं लगा . उसने पढाई लगातार बिना रुके पूरी  की जो मैं न जुटा सकी वह उसने खुद  जुटाया और अपने वैज्ञानिक  के सपने को पूरा ही नहीं किया बल्कि इस एवार्ड को लाकर मेरे संघर्ष को एक मुकाम दे दिया .

बुधवार, 3 अप्रैल 2013

हौसले को सलाम (११ ) !

                         भाग्य और कर्म दोनों का चोली दमन का साथ है. हाँ ये हो सकता है की भाग्य साथ न दे तो अथक परिश्रम के बाद भी उपलब्धि नगण्य हो लेकिन कर्म कभी भी विफल नहीं होता है . हौसला भी बना रहता है और मार्ग भी आसन हो जाता है. उसके बाद उसका आकलन अगर सही ढंग  से किया गया तो सब कुछ सार्थक लगता है. 

                          आज की प्रस्तुति है विभा श्रीवास्तव जी की . 



नर से बढ़ कर नारी .... 
लिखा हमनें पढ़ा ....
सोचा हमनें  समझा नहीं ....
माना हमनें अपनाया नहीं ....
लेकिन मैं एक उद्दाहरण लाई हूँ ....
सन 1995 ....
मेरे ससुर जी रिटायर्ड होनें पर मुजफ्फरपुर(बिहार) में बना-बनाया घर खरीद लिए जो हमलोगों का स्थाई निवास-स्थान बना ..... उस घर के पड़ोस में ही एक परिवार रहता था .... उस परिवार में पति-पत्नी और दो प्यारी सी छोटी-छोटी बच्चियां .... छोटी वाली कुछ महीनों की थी लेकिन बहुत ही प्यारी थी .... उसी उम्र का मेरी देवरानी का बेटा भी था जो बाहर भोपाल में अपने माता -पिता के साथ रहता था .... पोते के नहीं रहने के कारण मेरी सास उस बच्ची के पास ज्यादा जाती .... और धीरे-धीरे ,उस परिवार से हम सब घनिष्ट होते गए .... उस परिवार के लिए बड़ी भाभी और बच्चियों के लिए बड़ी अम्मा बनी मैं ..... मुझे एक और देवरानी मिली नीतू अस्थाना और देवर विवेक अस्थाना .....
विवेक एक लड़कियों के महाविद्द्यालय में सहायक के तौर पर कार्य करते थे .... आमदनी का एक ही जरिया होने के कारण पैसे की कमी नीतू को बहुत ही परेशान करता था .........
 वो अक्सर बात किया करती :- दीदी मुझे कुछ करना होगा ,क्यूँ कि मैं अपनी बच्चियों को लाड-प्यार से पालना चाहती हूँ .... बहुत पढ़ाना चाहती हूँ .... इतने पैसे से ठीक से भोजन ही नहीं हो पाता .... शिक्षा कैसे होगा .... ??
कुछ सालों के बाद जब छोटी वाली भी स्कूल जाने लगी तो नीतू कुछ करने के लिए सोच ही रही थी , राह मिल गया ..... जिस महाविद्द्यालय में विवेक काम करते थे वहीँ नीतू को एक दूकान मिल गया ...दूकान बहुत ही छोटा था लेकिन नीतू के सपने और उस सपने को पूरा करने के हौसले बहुत ही बड़े थे .... नीतू उस दुकान में लड़कियों के जरुरत के सामान रखती थी .... उस महाविद्द्यालय में होस्टल भी था और दूर गाँव से आने वाली लड़कियों की संख्या भी अधिक थी .... लडकियों को बाहर बाज़ार जाने की इजाज़त भी नहीं थी ..... इसलिए नीतू के दूकान अच्छे चलने लगे ..... नीतू मेहनत भी बहुत करती .... सुबह उठ कर घर का सारा काम करती और लड़कियों को स्कूल भेजती .... फिर विवेक के साथ ही दुकान जाती .... बच्चियों के स्कूल से आने के समय घर आती ,उन्हें खाना खिला फिर दुकान जाती .... शाम में दूकान बंद करने के बाद बाज़ार जाती .... लड़कियों की जो मांग होती उसे खरीदती और साथ में घर के भी सामान लाती ..... फिर घर का रात का काम करती ....
उसके मेहनत रंग ला रहे थे लेकिन नीतू पूरी तरह संतुष्ट नहीं हो पा रही थी .... पैसे आ रहे थे ,तो खर्चे भी बढ़ रहे थे .... कुछ समय के बाद दूकान में ही वो लड़कियों के कपड़े मौसम के अनुकूल रखने लगी .... जो लडकियाँ उसके दुकान से कपड़ें लेती नीतू को ही सिलाने के लिए दे देतीं .... कुछ आमदनी का जरिया और हो गया .......... लेकिन नीतू अभी भी संतुष्ट नहीं थी .... वो थक रही थी लेकिन हौसले के पंख तो अभी भी थे ......... 
आज से 3-4  साल पहले अपने घर में ही लड़कियों का होस्टल खोल ली ..... घर में लड़कियां रखी .... खाने की भी व्यवस्था की .... फिर और कमरे बनवाती गई .... लड़कियों की संख्या बढाती गई ..... अपनी दोनों बेटियों को बाहर रख कर शिक्षा दिलवा रही है ....... 
पिछले दिन(18/3/2013) जब मैं पापा जी का श्राद्ध-कर्म के भोज में उसे आमंत्रित की तो वो अपनी चालीस लड़कियों के साथ एक कुशल सेनापति की तरह आई ........ सच बताऊँ .... उससे ज्यादा मैं उस दिन खुश हुई उन लड़कियों को देख कर .... उन्हें भोजन कराने मैं ज्यादा आनन्दित हुई ......... उन सब को एक बात मैं भी बोली खुद को बदलो समाज बदलना है ....
सच बताईये विवेक से बढ़ कर नीतू हुई कि नहीं ..... ??
उसने  साबित किया या नहीं .... ??

सोमवार, 1 अप्रैल 2013

हौसले के सलाम ! (१०)

                    कुछ ऐसे ही लोग जिन्हें हम देखते हैं और देख कर खुद हैरान हो जाते हैं लेकिन ये भी सच है की अगर हम खुद हौसला नहीं खोते तो वह ईश्वर भी हमारा हाथ थामे रहता है और हमें उतनी शक्ति देता है और रास्ते भी देता रहता है. 

                      आज की प्रस्तुति है सरस दरबारी जी की .
 
                   

                रेखाजी का मैसेज  आया  कि  अपनी लेखनी द्वारा महिला दिवस के  उपलक्ष्य में  स्त्रियों के संघर्ष और हौसले को  मान दिया जाय , जिन्होंने मुश्किलों को धता बता कर - अपने लिए समाज में एक गरिमा स्थापित की एक उदाहरण  --बनकर .

                 आँखों के सामने एक एककर चेहरे उभरते  ... नाम याद आते गए . सबकी एक ही -  ' प्रताड़ना' .....कभी  पति द्वारा, कभी  ससुराल में,कभी समाज में , बस अलग थी तो परिस्थितियां , परिवेश , शहर और नाम .
      तभी एक नाम जेहन में उभरा -- , सुनीति  का जो उम्र में मुझसे काफी छोटी ,  एक अन्तरंग सहेली , घर भर की चहेती --हाथों हाथ पली उसका हर शौक पूरा किया जाता -- यहाँ तक कि  जब उसने अपने विवाह पर हर साड़ी  के साथ मैचिंग चप्पल और उसी से मेल खाते हैंडबैग आर्डर किए तो रिश्तेदारों को अतिश्योक्ति लगी .  सुनीति  के माता -पिता ने दिल खोल कर उसकी हर  ख्वाहिश पूरी की .
            जितना प्यार दुलार उसे मायके में मिला , उससे कहीं ज्यादा दुलार ससुराल में मिला . विशाल उसे बहुत चाहते थे ,  जितनी देर घर पर रहते उसको आँखों  से  ओझल न होने देते ,  सास-श्वसुर, नन्द और विशाल , इस छोटे से चार सदस्यों के परिवार में वह एक मुट्ठी सी बंध गयी.
                    विशाल जब फैक्ट्री चले जाते तो वह बहुत ऊबती .श्वसुर को जैसे ही इस बात का अहसास हुआ, उन्होंने  उसके लिए एक प्राइमरी स्कूल खुलवा दिया .....
                      अब उसका समय बड़े आराम से कटता, गुणी  तो थी है .....स्कूल भी बढ़कर सेकेंडरी स्कूल बन गया .... इसी बीच दो प्यारे प्यारे बच्चे हुए ....बहुत होनहार ... और दुनियां का हर सुख उस घर में पनाह लेने पहुँच गया . पंद्रह साल यूं ही हंसी ख़ुशी में बीत गये. 
               शायद ईश्वर भी डर गया की कहीं यह लोग इतना सुख पाकर मुझे भूल जायें . और एक दिन विशाल की  फैक्ट्री में बायलर फट गया . त्राहि त्राहि मच गयी और जब तक सब समझ पाते विशाल के सीने में इतना धुआं भर गया कि  सांस के लिए जगह ही न बची ...... वह छोड़ कर चली गयी और उसके साथ ही चली गयीं उस घर की खुशियाँ .....
         सुनीति पत्थर हो गयी ...न बोलती , न रोती  , सबने रुलाने की बहुत कोशिश की , लेकिन सुनीति  सिर्फ सूनी आँखों से सबको देखती रही , लेकिन सुनीति सिर्फ रीती आँखों से सबको देखती रही. जब दर्द असहनीय हो जाता तो एक लम्बा सा नि:श्वास लेती और फिर वैसी ही. मुझे जब खबर मिली तो एक ही बात मूंहसे निकली, " ईश्वर इतना निष्ठुर तो नहीं हो सकता".
                उससे मिली तो मैं बिलख बिलख कर रो पड़ी   और वह मेरी पीठ पर हाथ फेर कर सांत्वना देती रही . 
         मैने  रोते रोते उससे पूछा , "कहाँ से लायी इतनी हिम्मत सुनीति ?" 
                  उसकी आँखों की कोर पर एक नमी ठहरी देखी  बस. मैं चली आई ....धीरे धीरे रिश्तेदार भी चले गए . अब केवल सुनीति  और उसके बच्चे . हल्द्वानी में विशाल और सुनीति  ने एक बहुत ही  सुन्दर बंगला   बनवाया था ... उसे बहुत ही चाव से सजाया था. उस हादसे के बाद जब वह उसी घर में बच्चों के साथ लौटी तो उसका यह संसार यादों की एक क़ब्रगाह बन गया था. हर तरफ विशाल की वही मुस्कराहट .. मानो  एक घिनौना मजाक कर रहे हों .... और अभी ठहाका लगाकर किसी कमरे निकल आयेंगे ......
                  अब, उसके दोनों बच्चे और वह स्कूल जिसे वह चलाती थी, बस यही उसकी दुनिया थे.
                    उस हादसे के बाद वह उठ खड़ी  हुई , उसे बच्चों  के लिए जीना था .  जब  वह बहुत  टूट जाती तो बारी बारी  वह और उसकी बेटियां  एक दूसरे को सहारा देती ... .. माँ बनकर . बस  समय फिर मरहम बना ... घाव तो भरे नहीं ... ;पर उसने उन्हें के साथ जीना सीख लिया . 
  आज उसके बच्चे अव्वल नम्बरों से पास हो ऊँची सिक्षा के लिए बाहर चले गए. और उसका स्कूल शहर के सम्मानित और गरिमा प्राप्त संस्थाओं में से एक है .उसे सरकार की तरफ से कई सम्मान, मैडल और प्रशस्ति पत्र मिले, अपने योगदान के लिए .
                    आज वह सबका गौरव है ...   . अपने माता -पिता का ... अपनी ससुराल और अपने शहर का .