रविवार, 5 जून 2016

खोयी बच्चियाँ या त्यागी या फिर अपहृत ?

      इधर विभिन्न स्रोतों से देख रही हूँ  कि कई बार बच्चियों की  तस्वीरें फेसबुक ,  व्हाट्स ऐप और अन्य सोशल मीडिया पर दिखलाई दे रही हैं और आज कल कुछ ज्यादा नजर आने लगी हैं। कभी तो ये विचार आकर सोचने पर मजबूर कर देता है कि वास्तव में ऐसा हो रहा है तो क्यों हो रहा है ? हाँ मैं इस बात को स्वीकार करती हूँ कि मैं भी ऐसी सूचनाओं को शेयर करती हूँ ताकि ये बच्चे अपने माँ बाप तक पहुंच जाएँ। 
                       
              इस चित्र ने मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया कि वास्तव में हो क्या रहा है ? ये चित्र कई बार घूम घूम कर आया और ये नागपुर स्टेशन का है।  फिर अचानक ये चित्र जिसमें महिला सिपाही नहीं थी फिर मेरे पास आया कि ये बच्ची चंडीगढ़ स्टेशन पर मिली है। इसके पीछे क्या चल रहा है ? 
                     ये मिलने वाली बच्ची इतनी छोटी भी नहीं है कि वह अपने शहर या गाँव का नाम न बता सके या फिर पापा मम्मी का नाम न बता सके।  अगर मान भी लें कि बच्ची नहीं बता सकती तो इसके माता पिता कैसे हैं कि उनकी इतनी बड़ी बच्ची स्टैशन पर छूट गयी और उनको खबर तक नहीं और जब भी उन्हें याद आया उन्हें पुलिस को खबर करनी चाहिए।  रेलवे अपने संपर्क से तुरंत ही पता कर लेती हैं और स्टेशन पर मिले बच्चे तो उनके संरक्षण में रहते हैं।  कहीं भी पुलिस को खबर करें वो संभावित जगहों पर जरूर खोजती है और पता चल ही जाता है। 
                      पिछले कई बार ये बच्चे ट्रैन या स्टेशन पर ही पाए गए।  किसी के दिमाग में ये सवाल उठा कि नहीं, मै नहीं जानती कि हम ये मान सकते हैं कि बच्चे दहशत में बदहवास हो जाते हैं और वह बोल नहीं पाते हैं।  इस के पीछे के कारणों पर नजर जाती ही है कि इस तरह से बच्चियों का पाया जाना किस बात का द्योतक है --

* क्या लड़की होने के कारण या फिर अधिक बच्चे होने के कारण ये बच्चियां जानबूझ कर छोड़ी गईं है ?

*क्या इन बच्चियों का ट्रैन से अपहरण किया गया है और किसी तरह से पकड़ने की आशंका से इसको वहीँ छोड़ दिया गया है ?

*क्या गलती से छूट जाने पर माता पिता ने इसकी रिपोर्ट रेलवे थाने या अन्य किसी थाने में दर्ज कराई भी है या नहीं ?

*क्या ये अपरहण के बाद लेकर छोड़ी गईं या किसी और मंशा से उठाई गईं थी ?

     इतने कारणों के बाद भी मैं इनके माता पिता की गलती और लापरवाही को ही इंगित करूंगी क्योंकि अपनी संतान के प्रति ऐसी लापरवाही क्यों करेगा कोई ? क्या इस लिए कि वह लड़की है और उससे वे निजात पाना चाहते हैं। अगर तुरंत सूचना दें तो बच्ची मिल सकती है। अगर नहीं ही रखना चाहते हैं तो सामाजिक संगठन इस दिशा में बहुत काम कर रहे हैं।  लड़कियों को संरक्षण दे रहे हैं फिर हिम्मत कीजिये और खुद छोड़ कर आइये। बेटे की चाह में आई हुईं बेटियां खुद दोषी नहीं हैं बल्कि आपका पूर्वाग्रह दोषी है। 
             एक बात और है कि जो ऐसी घटनाओं को सोशल मीडिया के जरिये फैलाते हैं , जरूरी नहीं की वह हर व्यक्ति के लिए उतना ही सोच का सबब बन जाए।  अधिकतर एक स्टेटस की तरह पढ़ कर लाइक  या शेयर करके आगे बढ़ जाते हैं।  लेकिन कुछ संवेदनशील मन उन मासूम चेहरों को भूल नहीं पाते हैं।  ये प्रश्न सदैव मन में कौंधता रहता है कि  पता नहीं वह बच्चा अपने घर वालों को मिला या नहीं। इस लिए इस तरह के स्टेटस अपने को बहुत जिम्मेदार दिखाने  के लिए न डालें और अगर आप वाकई जिम्मेदार है तो पहली बार इसको डालने वाला तह तक जाए और खबर रखे कि वह बच्चा कहाँ गया ? अगर आप इसकी सूचना देने के लिए जिम्मेदार हैं तो आगे भी इस जिम्मेदारी को निभाने का कार्य करें।  
                  किसी बच्चे के जीवन का प्रश्न स्टेटस मात्र नहीं हो सकता है।

गुरुवार, 2 जून 2016

पाठ्यक्रम : नैतिक और सांस्कृतिक मूल्य !

                      शिक्षा मानव जीवन की ऐसी नींव डालता है , जो उसके मनो-मष्तिष्क में गहरे पैठ जाती है और इसके कारण ही बच्चों के जीवन में संस्कार या फिर अपने समाज , देश और परिवार के प्रति एक अवधारणा बन जाती है।  चाहे घर हो , स्कूल हो या फिर उसका अपना दायरा - उसके चरित्र के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।  आज के सन्दर्भ में जब कि चरित्र और संस्कार का निरन्तर ह्रास होता चला जा रहा है और हम इसकी जिम्मेदारी बच्चों की संगति , टीवी , संचार के बढ़ते हुए साधनों को देने लगे हैं।  ऐसा नहीं है कि  ये जिम्मेदार नहीं है लेकिन जब घर की नींव ही कच्ची रखेंगे तो ऊपर की दीवारों के स्थायित्व की आशा कैसे कर सकते हैं ? फिर दोष आधुनिक शिक्षा पद्धति और शिक्षकों के पढ़ाने पर भी ऊँगली उठने लगते हैं लेकिन ये शिक्षक भी तो वहीँ सब और वहीँ से पढ़ कर  आ रहे हैं , जहाँ आज की पीढ़ी प्रवेश लेकर पढ़ने जा रही है।
                   देश का एक ही इतिहास और एक ही संस्कृति होती है।  उसको हम शिक्षा के द्वारा ही तो हस्तांतरित करते चले आ रहे हैं लेकिन उससे कट कर हम अपने आपको संचित नहीं कर पाएंगे।  हम जहाँ रहते हैं और जिस भारत भूमि पर रहते हैं , उसकी संस्कृति और इतिहास सबसे प्राचीन माना जाता है बल्कि कहें कि वह प्रमाण के साथ उपलब्ध भी है। लेकिन हम धीरे धीरे नए आविष्कारों के नाम पर पाठ्यक्रम को विस्तृत करते चले जा रहे हैं और उसमें नवीन विषयवस्तु को शामिल भी करते जा रहे हैं।  शिक्षा के जितने भी संगठन है उनका अपना अलग अलग पाठ्यक्रम है और उस पाठ्यक्रम को निर्धारित करने वाले सुधी और विद्वान हैं लेकिन उनकी अपनी सोच के अनुसार वह समय समय पर पुनरीक्षित होता भी है।  पुराने प्रसंगों को कालातीत समझ कर हटा दिया जाता है और नयी उपलब्धियों को इसमें शामिल कर लिया जाता है। इसमें ऐसे भी विचारक हैं जिनकी सोच अलग अलग विचारधाराओं से प्रभावित होती है।  उसके अनुसार देश का इतिहास बदल जाता है। स्वतंत्रता संग्राम के चरित्रों को अपने अपने ढंग से परिभाषित किया जाने लगा है।  हमारी आज की पीढ़ी अपने शिक्षकों से सबसे ज्यादा प्रभावित होता है और शिक्षक भी वही पढ़ाता है जो किताबों में लिखा होता है।
                  पाठ्यक्रम में शामिल विकृतियों को समय समय  इंगित किया  जाता रहा है और इस संक्रमण काल में जब सामाजिक और नैतिक मूल्यों का तेजी से अवमूल्यन हो रहा है जरूरी है कि पाठ्यक्रम को संशोधित किया जाय। वो महापुरुष और देश के गौरव व्यक्तित्व, जिन्हें उपेक्षित किया जाने लगा है और उनके आचरण आज भी सामयिक है , पुनः पाठ्यक्रम में शामिल  जाना चाहिए। ऐसा नहीं है कि समाज में और देश के महत्वपूर्ण और जागरूक संगठनों में  जागरूकता नहीं है , वो है और उसके लिए बराबर प्रयास किये जा रहे हैं।  इसका सबसे महत्वपूर्ण उदहारण है --
                  शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास की हाल में ही हुई २७-२९ मई २०१६ को  "राष्ट्रीय शैक्षिक कार्यशाला " जो रयत -बाहर , पोपद कैंपस (पंजाब में संपन्न हुई। इसमें जो प्रस्ताव रख गया वह समीचीन है और राष्ट्रीय स्तर इसको स्वीकार किया जाना चाहिए।

                  "पाठ्यक्रम में परिवर्तन सामयिक आवश्यकता है।  पाठ्यक्रम में निहित विकृतियों को लेकर शिक्षा बचाओ आंदोलन के द्वारा राष्ट्रव्यापी आंदोलन आरम्भ किया गया था।  परिणाम स्वरूप इन विकृतियों को हटाने के लिए सरकार को विवश होना पड़ा था।  माननीय सर्वोच्च न्यायलय ने शिक्षा बचाव आंदोलन की याचिका पर पुस्तकों में संशोधन के लिए २००८ में ऐतिहासिक निर्णय दिया था - 'भारत वसुंधरा रत्नगर्भा है।  समय -समय पर ऐसे महापुरुषों ने जन्मा लिया हकि जिन्होंने  विनाश कर समाज को सुव्यवस्थित किया है।  प्राचीन काल से लेकर वर्तमान तक महापुरुषों की असंख्य श्रृंखला है।  नयी पीढ़ी में भारतीयता का बोध और गौरब भाव जगाने के लिए ऐसी विभूतियों के जीवन -प्रसंग अत्यन्त प्रेरणादायी है।'
                             इस दृष्टि से नई  शिक्षा नीति के अन्तर्गत संपन्न परिचर्चाओं में अनेक सकारात्मक  सुझाव आये हैं.  शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास सबंधित संस्थाओं यथा - NCERT , CBSE , ICSE तथा अन्य राज्य स्तरीय बोर्ड उच्च शिक्षा संस्थाओं  आदि से आह्वान करती है कि  सकारात्मक  एवं प्रेरणादायी सुझावों को लागू करने हेतु शीघ्र प्रयास आरम्भ करे और पाठ्यक्रम को यथोचित सशोधन एवं परिवर्तन करें।
                          प्राथमिक शिक्षा से नैतिक मूल्यों एवं एवं अनुकरणीय चरित्रों का समावेश होना आवश्यक है।  फिर शिक्षा के स्तर के बढ़ने के साथ साथ ही  और  विस्तार से जानकारियों का समावेश करते जाना होगा। नैतिक मूल्यों  से पढ़ने और समझने से भटकती हुई युवा पीढ़ी  संभालने में  सहायक होंगे।