बुधवार, 21 सितंबर 2011

कैंसर को हरा दिया!

२२ सितम्बर कैंसर से जीतने की हिम्मत रखने वालों के लिए एक दिन - उस पर एक हिम्मतवाले इंसान से परिचय
कैंसर एक ऐसा रोग जिसके बारे में पता चलते ही उससे पीड़ित उसके घर वाले मानसिक तौर पर टूटजाते हें और उन्हें सिर्फ मौत सामने दिखलाई देती हैजब इंसान अन्दर से टूट जाता है तो फिर उसके और उसकेघर वालों को उसके लिए एक दृढ इच्छाशक्ति बनाये रखने में सहयोग देना चाहिएभय का भूत ही इंसान कोकमजोर कर देता है
इस रोग से लड़ते हुए एक इंसान को मैं पिछले १० सालों से देख रही हूँ और वह इंसान कोई और नहींमेरे बॉस हेंबहुत साल पहले जब वे मेरे बॉस नहीं थे तब उन्हें आँतों में कैंसर हुए था और उससे लड़े और मुक्तहोकर वापस लौटे और पहले की तरह से अपनी क्लास और प्रोजेक्ट का काम संभाल लियादुबारा उन्हें गले मेंकैंसर हुआ और वह कई महीनों तक बिस्तर पर रहे, अपनी पूरी जिजीविषा से उससे लड़ते रहे और फिर उसकोअपना गुलाम बना लियाजब वे लौट कर आये तो उन्हें अधिक बोलने से मना किया गया था लेकिन उस समयप्रोजेक्ट की conference चल रही थीउन्होंने सभी मेहमानों का स्वागत कियाफिर धीरे धीरे खुद को इस काबिलबना लियाखाना पीना एकदम से प्रतिबंधित और काम के घंटे उतने हीअपनी षष्ठी पूर्ति के बाद भी वे काम केघंटे उतने ही बनाये हुए हेंआई आई टी में सिर्फ एक विभाग नहीं बल्कि कंप्यूटर साइंस और इलेक्ट्रिकलइंजीनियरिंग दोनों विभागों में प्रोफेसर का काम देख रहे थेआज भी नके काम करने और करवाने की लगन देखकर लगता है कि कोई कह नहीं सकता कि ये इंसान कैंसर से लड़कर अपनी इच्छाशक्ति के बल पर ही मशीनअनुवाद में विश्व स्तर पर अपना अलग स्थान बनाये हुए है

8 टिप्‍पणियां:

  1. insan men agar hausla hai to wah kisi ka bhi mukabla kar sakta hai|

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसे लोग संघर्ष शीलता के परिभाषा होते हैं ...उन्हें मेरी और से हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसी जीवट इच्छाशक्ति स्तुत्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसे उदाहरण समाज के समक्ष आने ही चाहिएं, उन्‍हें मेरी शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मजबूत इच्छाशक्ति प्रेरक है.
    मेरी शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  6. नमन है उनको....अनेक शुभकामनाएँ..ईश्वर उन्हें दीर्घायु करें.

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरा सरोकार है, इस समाज , देश और विश्व के साथ . जो मन में होता है आपसे उजागर कर देते हैं. आपकी राय , आलोचना और समालोचना मेरा मार्गदर्शन और त्रुटियों को सुधारने का सबसे बड़ा रास्ताहै.