सोमवार, 31 मई 2010

मेरा लेखन का सफर : स्मृतियाँ कुछ तिक्त कुछ मधुर !

                            जब ब्लॉग तक पहुंची हूँ, तो मन हुआ कि संस्मरण की एक श्रृंखला जो यादों में बसी है और मेरे लेखन से जुड़ी है सब से बाँट लूं. बहुत कुछ सीखा और बहुत कुछ पाया इस लेखन से , किन्तु कैसे शुरू हुआ और कैसे कैसे लोगों से निपट कर यहाँ तक हूँ, यह भी एक महत्वपूर्ण दास्ताँ है.


                                 पढ़ना मेरे परिवार में एक व्यसन की तरह से था. पापा , माँ और दादी सभी पढ़ने के शौक़ीन थे. सबसे बड़ी बात ये थी कि मेरी दादी पढ़ लेती थी लेकिन अगर पृष्ठ शेष हो तो उसे नहीं ढूढ़ पाती थी हमसे कहती कि इसका पृष्ठ ढूढ़ दो. मेरे पापा के एक मित्र के पास पत्रिकाओं की एजेंसी थी सो वे सारी पत्रिकाएं मुफ्त में दिया करते थे और उस समय जो आज भी मेरी स्मृति में हैं - साप्ताहिक हिंदुस्तान, धर्मयुग, सारिका, माया, कादम्बिनी, नवनीत, हिंदी डाइजेस्ट, साथी, अरुण थी जो साहित्यिक और स्तरीय पत्रिकाएं थी. फिल्मी में पहले सुचित्रा ( जो बाद में "माधुरी" के नाम से आई), फिल्मी कलियाँ, सुषमा, रंगभूमि, फिल्मफेयर थी जो मुझे याद हैं. इनको चाटते चाटते अच्छे खासे ज्ञानी हो गए थे. अपनी उम्र से अधिक समझदार और दुनियादार.
                              मेरी लेखनी चली जब मैं १० साल की थी. मेरी पहली कहानी "ऋण " दैनिक जागरण के बाल जगत स्तम्भ में छपी थी, गरिमियों कि छुट्टी में हम सभी ननिहाल चले जाते थे. वहाँ से लौट कर आये तो पापा ने मुझे वह अखबार दिया और मेरी पीठ थपथपाई क्योंकि ये काम मैं बिना बताये ही किया करती थी. फिर मुझे भी बहुत ख़ुशी हुई. फिर इसी तरह से कई कहानियां निकलीं. जिनमें शेष स्वतंत्रता सेनानियों पर अधिक थी, जिनमें उसके महत्वपूर्ण संस्मरण मैंने बाल जगत के लिए ही लिखे थे.
                            जब स्कूल में पहुँची तो आदत तो नहीं छूटी थी, १५ अगस्त को स्कूल में डिबेट प्रतियोगिता रखी गयी. उस समय खाद्य समस्या एक बहुत बड़ा प्रश्न था. यही विषय रखा, मेरी जितनी पत्रिकाएं तो किसी के यहाँ आती नहीं थी, मैंने एक लेख तैयार किया और अपने क्लास कि मोनिटर को दे दिया कि तुम इसको बोल देना. उसे पढ़कर नहीं बोलना था. इत्तफाक से १५ अगस्त बारिश होने लगी और घोषणा की गयी कि हाल में हो रहे कार्यक्रम में वही क्लास आयेंगे जो कि इस में भाग ले रहे हैं. अब इज्जत का प्रश्न था. सब ने कहा चलते हैं देखेंगे. मेरी क्लास से किसी ने मेरा नाम वहाँ दे दिया. जब नाम बुलाया गया तो मुझे तो काटो खून नहीं , लेकिन मैंने पढ़ा था और लिखा था सो सब पता था, लड़कियों ने ठेलठाल कर स्टेज पर भेज दिया और  मैं वहाँ  बोल कर आ गयी , फिर नीचे बैठ कर खूब रोई तुम लोगों ने मेरा नाम क्यों दिया? लेकिन इससे मेरा नाम कॉलेज में हो गया. फिर तो हर डिबेट में भाग लेना ही होता था.
                          उन दिनों आज की तरह से कंप्यूटर तो थे नहीं , सो ऑरकुट और फेसबुक या और networking के साधन होते. हाँ पत्र ही सबसे बड़े साधन थे. मेरे यहाँ उस समय "नेशनल हेराल्ड" पेपर आता था और उसमें एक कालम होता था "पेन फ्रेंड" का उसमें रूचि आने लगी और उसे ही मेरी एक फ्रेंड बनी "प्रतिमा श्रीवास्तव" जो कानपुर की थी. मेरे पत्रों के लिखने के ढंग से उसने मुझसे कहा कि "तुम कविता लिखो, तुम कविता लिख सकती हो", वह आज भी मेरी बहुत अच्छी मित्र है और लेखिका भी है. इस विधा के बारे में मैंने पहले नहीं सोचा था. फिर लिखने की कोशिश की. और लिख लिख कर डायरी में इकठ्ठा करती जाती. वह हर साल दिसंबर कि छुट्टी में उरई मेरे पास जाती थी. फिर उनमें करेक्शन करती.
                         मेरा  पूरा घर फिल्मों के भी उतने शौक़ीन थे, शायद ही बचपन में कोई फ़िल्म जाती हो , जो हम न देखते हों. जो न देख पाते फिल्मी पत्रिकाओं में उनकी पूरी कहानी नाट्य रूप में दी जाती थी और उनसे काम चला लेती. मीनाकुमारी मेरी पसंदीदा अभिनेत्री थी. ३० मार्च १९७२ को उनका निधन हुआ और इससे मैं बहुत ही दुखी थी. मैंने माधुरी में एक संवेदना पत्र लिखा और वह पत्र छपा. उसमें पता भी छपा था फिर क्या था? बहुत सारे पत्र आने शुरू हो गए. किसी को बहन बनाना था कोई दोस्ती करना चाहता था. हम सब भाई बहन के लिए ये नया अनुभव था सब मिलकर बैठकर पत्र पढ़ते . उनमें से चार लड़के सबने चुने . एक अमर जो मथुरा का था, एक योगेन्द्र जो बीकानेर का था, एक विनोद वह भी बीकानेर का था और एक अजय जो बिहार का था.  चारों वही किशोरों वाली उम्र के मैं ही कहाँ बड़ी थी लेकिन वे सब मुझसे भी छोटे थे.  एक लड़की भी फ्रेंड बनी "उमा श्रीवास्तव" जो दोहद गुजरात से थी. जिससे वर्षों पत्र व्यवहार चला. एक बार वह सपरिवार मुझसे मिलने उरई भी आई क्योंकि उसके पापा रेलवे में थे. इसी तरह से भाइयों से भी मेरी कई साल तक राखी भेजना और पत्र व्यवहार  चलता रहा. लेकिन भाइयों से कभी मिली नहीं. उनमें से जिनके फोटो मेरे पास थे आज भी मेरे पुराने अल्बम में लगे हुए हैं. वे सब भूल गए होंगे लेकिन मुझे आज भी याद हैं.
                                                                                                                                                    { क्रमशः }

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही रोचक यात्रा रही आपकी...और इतने कम उम्र में जो लेखनी थामी,अब तक अनवरत चल रही है...और ऐसे ही चलती रहें...शुभकामनाएं
    कई नई जानकारियाँ भी हासिल हुईं..'.दैनिक जागरण ' इतना पुराना समाचारपत्र है?...और माधुरी का नाम सुचित्रा था...यह सब तो पता ही नहीं था...जारी रखिये ये संस्मरण यात्रा....अभी बहुत सारी जानाकरी मिलने की उम्मीद है...और रोचक बातें भी

    उत्तर देंहटाएं
  2. लिखने के गुण तो आपमें बचपन से ही थे, तभी तो आज हर विषय पर आप अधिकार सहित लिख रही हैं. आपका बचपन पढ के अपना बचपन भी याद आ गया मुझे. अगला भाग जल्दी ही डालियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबसे पहले तो आप का शुक्रिया जो आप ने मुझे e-mail कर के ये सुचना दी की आप की पोस्ट आप के ब्लॉग पर छपी हे

    और अब आप के साहित्यिक जीवन की तारीफ कर दू जो मात्र १० वर्ष की उमर मे ही आप ने लिखना शुरू कर दिया , इस बात पर बेहद खुशी हुई मुझे जानकर की आप बचपन से ही एक जबरदस्त लेखिका रही ही

    और हा जो आप को भुलगये , या आप के संपर्क मे नहीं ही उन्हें भी आप ने इतने सालो तक यद् राख़ यहाँ जिक्र किया ये काम कोई बड़े दिल वाला ही कर सकता ही जो आप मे है |

    एक बार फिर आप को इस शानदार पोस्ट के लिए बधाई

    शेखर kumawat

    उत्तर देंहटाएं
  4. keep writing but make them a little shorter in length per post .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत रोचक लेखन यात्रा....बहुत अच्छा लगा पढ़ना...१९७२ में मैं B.A. final में थी... :):)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत रोचकता से लिखा है आपने ये संस्मरण काफी जानकारियां भी मिलीं और ये भी कि" पूत के पाँव पालने में ही दीख जाते हैं :) (१० साल कि उम्र में कहानी छपना )..आगे कि किश्तों का इंतज़ार है

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरा सरोकार है, इस समाज , देश और विश्व के साथ . जो मन में होता है आपसे उजागर कर देते हैं. आपकी राय , आलोचना और समालोचना मेरा मार्गदर्शन और त्रुटियों को सुधारने का सबसे बड़ा रास्ताहै.