बुधवार, 15 अगस्त 2012

ध्वजारोहण !

                             

 


                  राष्ट् ध्वजारोहण अपने आप में एक सम्मान है और आज इसा सम्मान को पाने की घटना को सबसे बांटने का मन किया तो लिखना प्रासंगिक लगा . वैसे ये अधिकार सिर्फ प्रमुखों को ही प्राप्त होता है . चाहे बड़े संस्थान हो,  राष्ट्र या प्रदेश के प्रमुख हों, या किसी बड़े कालेज या स्कूल की प्रमुख। 
                                 आज बताने का मन हुआ कि इस सौभाग्य को मैंने भी प्राप्त किया है। उस समय मैं अपना एम एड  पूरा करके तैयार हुई थी कि मेरे पति के एक मित्र ने पब्लिक स्कूल खोल रखा था और उसकी प्रिंसिपल बहुत ही विद्वान् थी। लेकिन किसी कारणवश उन्होंने पद छोड़ा और कहा कि  मैं उस पद के लिए उपयुक्त हूँ  और वह पद मैंने संभाल लिया। वैसे भी राष्ट्रीय पर्व पर स्कूल के प्रबंधक या उनकी पत्नी ध्वजारोहण के लिए आते थे और वही ये काम करते थे। लेकिन उस 26 जनवरी को शायद वो अपने स्कूल (जहाँ वे नौकरी करते थे ) में फँस गए और उन्होंने कहा कि इस बार ध्वजारोहण मैं ही करूं . वह 26 जनवरी 1985 थी जब कि  मैंने ध्वजारोहण किया था। इस बात का मुझे गर्व भी है कि  देश के ध्वज को फहराने और सलामी देने का अवसर मुझे मिला 
 

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है!! सचमुच ये सौभाग्य ही है. शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. निःसंदेह यह एक सौभाग्य है .... और इस के लिए आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरा सरोकार है, इस समाज , देश और विश्व के साथ . जो मन में होता है आपसे उजागर कर देते हैं. आपकी राय , आलोचना और समालोचना मेरा मार्गदर्शन और त्रुटियों को सुधारने का सबसे बड़ा रास्ताहै.