शनिवार, 26 मार्च 2011

कौन बीमार औ' दवा किसकी?



वह दंपत्ति मेरे पास आया था और उनके पति अपनी पत्नी की काउंसिलिंग के लिए उन्हें लाये थेउन्हें शिकायतथी कि वे बहुत गुमसुम रहने लगी हैंउन्हें लगता है कि घर से बाहर और ऑफिस में खुश रहती हैं फिर घर में हीआकर क्या हो जाता है? वे इसका निदान चाहते थे और उन्होंने ये बात मुझे फ़ोन पर पहले ही बता दी थीपति औरपत्नी दोनों ही उच्च शिक्षित और अच्छी जगह पर नौकरी कर रहे थे
जब उन दोनों ने मेरे कमरे में प्रवेश किया तो मुझे ये समझते देर नहीं लगी कि बीमार कौन है ? जहाँघर में सिर्फ दो ही लोग रहते हों और फिर भी तनाव तो उसका कारण कोई एक तो बनता ही होगामैंने दोनों से हीअलग अलग बात करना चाहा तो पति से कहा कि आप बाहर बैठें , मैं इनसे अकेले में कुछ पूछना चाहती हूँपतिदेव बाहर चले गए
जब पति बाहर निकल गए और दरवाजा बंद हो गया तो पत्नी ने पीछे मुड़कर देखा और एक गहरीसाँस लीउनकी सिर्फ एक सांस ने पूरी कहानी बयान कर दीफिर भी उनकी हिस्ट्री तो जाननी ही थी
"आपके घर में कितने सदस्य हैं?"
"हम दोनों ही हैं - बच्चे बाहर पढ़ रहे हैं।"
"आप जॉब करती हैं?"
"जी।"
"कहाँ?"
"बैंक में पी आर हूँ।"
"आपकी सेलरी भी अच्छी होगी, फिर आप तनाव में क्यों रहती हैं?"
"क्या सिर्फ पैसा होना ही तनाव का वायस होता है?"
"ऐसा तो नहीं है फिर भी ७० प्रतिशत तो होता ही है।"
"मेरे साथ ऐसा नहीं है - मेरे तनाव का करण सिर्फ इनकी कुछ आदतें हैं, जिन्हें बहुत सहा लेकिन अब झेल नहीं पाती हूँ तो खामोश रहती हूँपहले बच्चे थे उनसे सब शेयर कर लेती थी किन्तु अब घुटकर रह जाना पड़ता हैकिससे बांटूं?"
"मुझे बतलाइये शायद कोई समाधान निकल सके।"
"मेरे पतिदेव वैसे बहुत अच्छे हैं, केयरिंग हैं किन्तु उनकी कुछ आदतें अब मुझे भारी पड़ने लगी हैंपहले किसीऔर तरीके से ये सामने आती तो टाल जाती थी किन्तु अब मेरे सहन शक्ति भी जवाब देने लगी है।"
"जैसे"
"सबसे पहले जब भी उन्हें मौका मिलेगा मेरे मोबाइल की सर्च करेंगेये किसका नंबर है? ये कौन है? इस नंबरपर इतनी देर क्या बात हुई? आज दिन में किस किस कि कॉल आई और क्या बात हुई? किसी नए नम्बर को देखकर सवालमेरे मैसेज बॉक्स को खोल कर पढ़नाबच्चों से इतनी इतनी देर तक क्या बात करती हो? वैसे चाहेजितना पैसा खर्च करो कोई बात नहीं लेकिन मोबाइल में खर्च पर सेंसर बैठा रहता है और ये बातें अब मेरी सहनशक्ति से बाहर हो चुकी हैं तो मैं संक्षेप में उत्तर देकर चुप ही रहती हूँ। "
"बस इतनी सी बात।"
"आपको ये बात इतनी सी लगती होगी , मेरे लिए ये मेरे अस्तित्व पर प्रश्न चिह्न जैसा लगता हैआख़िर क्यों? मैंसारी बातें शेयर करूँ? ऑफिस में क्या होता है? क्या समस्या मेरे सामने आई और कैसे निपटी? ये मेरा काम हैमेरा मोबाइल मेरी निजी संपत्ति है उसको छूना और उसका पोस्ट मार्टम -- मैं तनाव बढ़ाना नहीं चाहती हूँ इसलिएचुप ही रहती हूँ।"
अब माजरा मेरी समझ में आया कि यहाँ बीमार पत्नी नहीं बल्कि पति स्वयं हैं और ऐसे लोग खुद इसबात को कभी स्वीकार या महसूस ही नहीं कर सकते हैं कि उनके द्वारा किया जा रहा व्यवहार असामान्य हैउनकीदृष्टि में ये उनका अधिकार है कि पति और पत्नी का कुछ भी बँटा हुआ नहीं है फिर भी निजी जिन्दगी हर एक कीअलग होती हैअपने निजत्व में कौन किसको कितना हिस्सा देना चाहता है उसका सम्मान करना चाहिए
एक सिर्फ एक पति या पत्नी का ही मामला नहीं है बल्कि ये तो माँ बाप और उनके बच्चों के मध्य भीहो सकता हैऐसा व्यवहार करने पर बच्चे विद्रोही तक हो जाते हैंजरूरत से ज्यादा नजर रखने पर बच्चे जानबूझकर उसका उल्लंघन करने लगते हैंइसका मतलब ये कतई नहीं है कि बच्चों पर नजर रखना छोड़ देंये विद्रोह किशोरावस्था में अधिक होता है और यही वह उम्र होती है जब कि बच्चों के कदम गलत रास्ते पर जा सकते हैंआप उन पर दृष्टि रखिये लेकिन उनके पीछे सेउन्हें समझाइए लेकिन दूसरों का उदाहरण देकर ताकि उन्हें ये लगे कि ये सारी बातें उन पर थोपी जा रही हैंइलाज उसी का होना चाहिए जो वास्तव में बीमार हो लेकिन पुरुषअपने को और अपनी गलतियों को खासतौर पर ऐसे पुरुष मानने के लिए तैयार ही नहीं होते हैं और फिर इसकाकोई भी इलाज संभव ही नहीं हैऐसा सिर्फ स्त्रियों के साथ ही होता हो ऐसा नहीं है इसके ठीक विपरीत स्थिति भीमैंने देखी हैअपने परिवार कि सुख और शांति के लिए समझदारी का प्रयोग तो दोनों को ही करना होगाअगरआप गलत हैं तो उसको स्वीकारिये भले खुद में उसे महसूस कीजिये और दूसरे को अपने निजत्व के साथ जीनेका अधिकार दीजियेऐसे चीजों को समस्या मत बनाइये बल्कि सहजता से लीजियेघर बाहर निकलने वालीनारी हो या पुरुष सबका अपना अपना दायरा बन जाता है और फिर उस दायरे के हर व्यक्ति से वह परिचित नहींकरा सकता/सकती हैइस लिए ऑफिस को घर में मत लाइए और एक दूसरे के प्रति विश्वास और निष्ठां को बनायेरखें

8 टिप्‍पणियां:

  1. ऑफिस को घर में मत लाइए और एक दूसरे के प्रति विश्वास और निष्ठां को बनाये रखें...

    सही कहा आपने।
    अच्छेआ और गंभीर विषयों पर ध्याकन आकर्षित करने और मनन करने का अवसर देने के लिए आपका आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रिश्ते में निजता का ख्याल तो रखना ही चहिये. विश्वास ही रिश्ते का स्तम्भ है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने भी दूसरे का उदाहरण दे कर सबको बहुत कुछ समझाना चाहा है ...अच्छा चिंतन और मनन करने योग्य लेख ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. परिवार मे विश्वास बहुत जरुरी हे, आप ने बहुत सुंदर बात कही, ओर सुंदर सलाह भी दी, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेम और विश्वास के अलावा इन समस्याओं का दूसरा कोई उपाय नहीं है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम और विश्वास पर ही दुनिया कायम है.अच्छी कहानी

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरा सरोकार है, इस समाज , देश और विश्व के साथ . जो मन में होता है आपसे उजागर कर देते हैं. आपकी राय , आलोचना और समालोचना मेरा मार्गदर्शन और त्रुटियों को सुधारने का सबसे बड़ा रास्ताहै.