शनिवार, 14 अप्रैल 2012

अम्बेडकर जयंती !


आज अवकाश का दिन है क्योंकि आज भीम राव अम्बेडकर जी की जयंती हैअम्बेडकर जी भारत के गणतंत्र राष्ट्र के लिए संविधान निर्माताओं में प्रमुख स्थान रखते हें और इसके लिए देश उनके प्रति कृतज्ञ है
लेकिन आज कई वर्षों से अम्बेडकर जी के नाम को एक तमगा बना लिया गया है और वे जातिगत संपत्ति बन गए हेंचाहे वह उनके नाम को लेकर हो या फिर उनकी मूर्ति को लेकरचाहे वे जो उनकी मूर्ति के विभिन्न आकार में बनवा कर अपने घर या झोपड़ी के आगे लगा कर रहने लगते हें वह अवैध कब्जे के लिए एक साधन बना लिया गया हैहम कहते हें कि दलित और पिछड़ों को अपने अधिकार और उससे जुड़े कानूनों की जानकारी नहीं है इस लिए वे शोषित होते रहते हेंऐसा कुछ भी नहीं है वे जो इससे अनभिज्ञ है वे तो इस बात के लिए जाने जा सकते हें लेकिन वे जो यह जानते हें कि वे अम्बेडकर जी की मूर्ति लगा कर खुद को सुरक्षित कर लेंगे क्योंकि प्रशासन ही अगर उस मूर्ति के नाम पर कब्जाई गयी जमीन को मुक्त करने के लिए कार्यवाही करेगा तो जरूर ही कुछ राजनीतिक दल वाले और कुछ अपने को उनका प्रतिनिधि कहने वाले लोग दंगा फसाद करने से नहीं चूकेंगेराजीनीति के तवे पर तुरंत ही अफवाहों की रोटियां सिंकनी शुरू हो जायेंगी
मैं इस बात के लिए खुद गवाह हूँ की घर से निकल कर ऑफिस जाने तक या कहीं भी शहर में जाने तक अगर सबसे अधिक मूर्तियाँ किसी की दिखेंगी तो वे अम्बेडकर जी की होंगीक्या उनकी पूजा की जाती है या रोज उस पर फूलमालाएं चढ़ा जाती हें ऐसा कुछ भी नहीं है बल्कि ये सिर्फ इस बात का प्रतीक है कि इसके पीछे जो घर बने हें वे अवैध हेंहर आकार की छोटे से लेकर बड़े तक मूर्तियाँ आपको सड़क के किनारे मिल जायेंगीजो इसको लगाकर कब्ज़ा किये बैठे हें उन्हें ये नहीं मालूम है कि इस व्यक्तित्व ने देश के लिए या फिर जाति के लिए क्या किया था? हाँ ये जरूर कहेंगे कि ये हमार मसीहा हेंशायद वे इस मसीहा शब्द के पूर्ण अर्थ से भी वाकिफ नहीं होंगेहाँ इससे जरूर परिचित हें कि इसको लगा लेने से हम सुरक्षित हें और हमारा कब्ज़ा कल वैध हो जाएगा
अम्बेडकर जी के नाम और उनकी मूर्ति को भुनाने का धंधा करने वाले कुछ स्वार्थी तत्व निजी स्वार्थ के लिए प्रयोग कर रहे हेंकोई गाँधी जी , नेहरु या किसी भी शहीद की मूर्ति नहीं लगाएगा. सबसे अधिक श्रद्धा स्वार्थ की होती है और वही बनी हुई हैइस विषय में भी आचार संहिता बनायीं जानी चाहिए कि अवैध कब्जों को वैध बनाने के लिए मूर्तियों या फिर मंदिरों को प्रयोग किया जायअगर किया जाय तो फिर उसकी अनुमति स्थानीय सरकार द्वारा लेना आवश्यक कर दिया जायसंविधान में दी गयी स्वतंत्रता के अधिकार का दुरूपयोग जो बढ़ता चला जा रहा है उस पर अंकुश भी लगाना उतना ही जरूरी है

11 टिप्‍पणियां:

  1. bahut umada samyik vishleshan... aaj baba ambedkar jaise vyktitva ki jarurat hai ..lekin asfsos yahi hai hi aaj sirf apni roti sekne walon ki bheed kuch jayada hi hai..
    Baba ji ko shat-shat naman!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अम्बेडकर जी के नाम और उनकी मूर्ति को भुनाने का धंधा करने वाले कुछ स्वार्थी तत्व निजी स्वार्थ के लिए प्रयोग कर रहे हें।

    कोई इस विवाद में हाथ नहीं डालना चाहता , अपनी स्वार्थ की रोटियाँ सेकते हाथ जल जाएँगे

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. usa आग को बुझाने के जतन तो होने ही चाहिए, वर्ना संविधान में दिए अधिकारों का सदुपयोग नहीं दुरूपयोग करने में लगे हें लोग.

      हटाएं
  3. क्या कहा जाये..अब तो कुछ कहने का भी मन नहीं होता.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कहने का मन इसलिए नहीं होता कि इस सब को देखने के लिए तुम दूर बैठी हो और हम जब सड़क पर निकलते हैं तो अपने ही बाल नोचने का मन करता है.

      हटाएं
  4. आजादी के पूर्व देश में संविधान नहीं था। अम्‍बेडकर जी को यह गौरव प्राप्‍त है कि उन्‍होंने देश के लिए एक संविधान का निर्माण किया। लेकिन उन्‍हीं के प्रशंसक संविधान को नही मानकर अपनी इच्‍छा से जमीन पर कब्‍जा कर रहे हैं, यह दुखद है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अजित जी,
      ये सब उनके प्रशंसक नहीं है बल्कि उनकी देश के लिए भूमिका से पूरी तरह परिचित भी नहीं है , हाँ इतना मालूम है कि इस मूर्ति से अपने लिए अवैध कब्जे को भी वैध बनाये रख सकते हैं. अगर मोहल्ले को ये नाम दे दिया तो उसको सारी सुविधाएँ मिल रही हैं और गाँव का नाम हो गया तो फिर वह शहर से बेहतर बन गया लेकिन इसके बाद ?

      हटाएं
  5. सहमत ....अब अम्बेडकर की मूर्तिया भी कब्जा करने का साधन हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अम्बेदकर साहब की मूर्तियों के द्वारा कब्ज़ा करना वैसा ही हो गया है जैसे किसी सरकारी ज़मीन पर कब्ज़ा करने के लिए एक पत्थर रख कर कुछ फूल माला चढा दो और किसी भगवान का मंदिर बना दो. ये सभी आस्था या प्रेम के लिए नहीं बल्कि संपत्ति या भूमि हथियाने का तरीका है और सरकार...
    अच्छा आलेख, आभार.

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरा सरोकार है, इस समाज , देश और विश्व के साथ . जो मन में होता है आपसे उजागर कर देते हैं. आपकी राय , आलोचना और समालोचना मेरा मार्गदर्शन और त्रुटियों को सुधारने का सबसे बड़ा रास्ताहै.