बुधवार, 30 जून 2010

मेरा एक सफरनामा (त्रयम्बकेश्वर मंदिर) !

                                              ऐसी सफर और सैर मैंने परिवार और कुछ आत्मीय लोगों के साथ शायद पहली बार की और उसको पूरा पूरा एन्जॉय किया. बस दुःख इस बात का रहा कि मेरी छोटी बेटी अपने exam के कारण इसमें शामिल नहीं हो पायी. इसमें अलग अलग राज्यों के मौसम से परिचय भी हुआ और उसका सुखद अनुभव भी अविस्मरणीय रहा.
                                             वैसे तो मेरा पड़ाव पहले नासिक ही रहा लेकिन मैंने सबसे पहले त्रयम्बकेश्वर  से ही अपनी यात्रा आरम्भ करती हूँ. नासिक रोड स्टेशन से लगभग २८ किलोमीटर कि दूरी पर पहाड़ियों के बीच में स्थित है. यहाँ की प्राकृतिक सुन्दरता देखते ही बनती है.

इस स्थान का विहंगम दृश्य देख कर ही पता चलता है कि इसकी सुन्दरता तो  अद्भुत ही है, साथ ही इसके लिए हिन्दू धर्म में जो आस्था जुड़ी है उसने इसको और अधिक महत्वपूर्ण बना दिया है. भारत भूमि पर स्थित १२ ज्योतिर्लिंगों में से एक यहाँ पर है. यहाँ पर दर्शन के लिए लाइन में लगे लोगों को देख कर ही वहाँ के लोग बता देते हैं कि अभी ४ घंटे की लाइन लगी है. यहाँ पर सिर्फ त्रयम्बकेश्वर का ही महत्व नहीं हैं बल्कि गोदावरी नदी और ब्रह्मगिरी पर्वत को भी उतना ही महत्वपूर्ण मना जाता है.
त्रयम्बकेश्वर मंदिर का निर्माण नासिक  के  समीप  त्रयम्बक नामक  स्थान पर  श्रीमंत बालाजी बाजीराव उर्फ नानासाहिब  पेशवा द्वारा १७५५ में आरम्भ किया गया था और १९८६  में इसका कार्य पूर्ण हुआ था. . उस समय इस मंदिर के निर्माण में १६ लाख मुद्रा और ३१ वर्ष का समय लगा था. 
इसमें जो ३ लिंग स्थापित है , वे ब्रह्मा (सृष्टि के सृजक), विष्णु ( सृष्टि के पालक ) और महेश (सृष्टि के संहारक) के प्रतीक माने जाते हैं. शेष ज्योतिर्लिंगों में सिर्फ भगवान शिव के लिंग को ही देखा जा सकता है.  ये लिंग प्राकृतिक हैं और गंगा का पवित्र जल शिवलिंग के ऊपर बहता है. ये लिंग जल के नीचे ही रहते हैं. पुजारी यहाँ पर दिन में तीन बार पूजा करते हैं और इसके लिए उनको १००० रुपये का प्रतिदिन का अनुदान प्राप्त होता है. प्रदोष काल  में विशेष पूजा का प्रावधान है. 

इस मंदिर कि वास्तु काला और प्राचीन स्थापत्य काल को देख कर सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है कि पत्थरों पर की गयी उत्कीर्णन का कार्य कितना उत्कृष्ट और अनुपम होता था. सदियों से खड़ा ये मंदिर आज भी अपनी  कथा स्वयं कह रहा है . 

मंदिर  की स्थापत्य  काला  का  नमूना यहीं  देख  सकते  हैं .
  
त्रयम्बक में स्थित ये कुण्ड गोदावरी नदी के उद्गम से बना स्थल मान  जाता है. गोदावरी नदी का उद्गम ब्रहाम्गिरी पर्वत से ही माना जाता है और इसको गंगा की  तरह ही पवित्रतम नदी माना जाता है. रामायण युग में सीता के इस गोदावरी में स्नान के लिए विशेष प्रेम की कथाएं सुनने को मिलती हैं. 
इस बारे में इतना अवश्य कहा जा सकता है कि अगर देर रात्रि नासिक से त्रयम्बक पहुंचना हो तो वहाँ के रास्ते इतने सुनसान हैं कि किसी भी दुर्घटना से इनकार नहीं किया जा सकता है. चारों ओर पहाड़ियों के बीच होने के कारण वहाँ पर जन जीवन भी बहुत अधिक नहीं है. वहाँ पर पूजा और धार्मिक संस्कारों से जुड़े कार्यों के लिए विशेष महत्व का स्थान माना जाता है.

14 टिप्‍पणियां:

  1. त्रयम्बक की रोचक यात्रा करवाने के लिए शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत रोचक वर्णन....चलिए हम भी इस यात्रा में शामिल हो गए...और चित्रों ने तो बिलकुल दर्शन भी करा दिए....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी लेख तो नही पढा मगर आपको बताना चाहुँगी कि आज के हिन्दुस्तान मे आपके ब्लोग की चर्चा पढी तो बहुत अच्छा लगा।बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर यात्रा विवरण...हमारी भी यादें ताज़ा हो गयीं....सच मंदिर तक पहुँचने के उत्साह में पहाड़ी की चढ़ाई भी कुछ नहीं लगती...और हरीतिमा से आच्छादित मंदिर...बहुत ही रमणीक यात्रा है...और मंदिर का महात्म्य तो है ही..
    सुन्दर पोस्ट.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरे आप तो हमारे पडौस की यात्रा कर आयीं...त्रयम्बकेश्वर हमारे घर से मात्र साढ़े चार घंटे की दूरी पर है...गोदावरी का उद्गम जो ऊपर पहाड़ों पर है तक जाने के लिए बहुत समय और ऊर्जा लगती है...दर्शन के लम्बी लाइन लगती है लेकिन वहां घूम रहे दलाल आपको पचास / सौ रुपये में जल्द दर्शन करवा देते हैं...वहां पर फैली गंदगी और भ्रष्टाचार चाहे श्रधालुओं को न दिखे लेकिन आम इंसान को देख कर बहुत दुःख होता है...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमें तो मालूम ही नहीं था, नहीं तो वहाँ भी हो आते. आपका कहना सही है, सैलानी तो ठगे ही जाते हैं. लेकिन और कोई चारा नहीं होता है. मैंने भी बैक डोर से ही दर्शन किये थे लेकिन पैसे नहीं देने पड़े.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके साथ यह यात्रा बहुत सुखद रही ..चित्रों के साथ वर्णन मनमोहक है.बहुत ही सुन्दर पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  8. cचलो आपकी पोस्ट के साथ हम ने भी त्रयम्बक की रोचक यात्रा कर ली तस्वीरें मनभावन हैं धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ब्रह्मा , विष्नू महेश के दर्शन का आनंद ... त्रम्ब्केश्वर ज्योतिर्लिंग के महत्व और यात्रा व्रतांत को बाखूबी पेश किया है आपने ... सुंदर चित्रों से सजी पोस्ट ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. त्रयम्बकेश्वर पिछली भारत यात्रा के दौरान गये थे...दर्शन करने.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर वर्णन और ज्ञानवर्धक जानकारी ! कुछ साल पहले मुझे भी त्रयम्बकेश्वर जाने का अवसर मिला था और वो सब दृश्य आपको पढ़ कर और सुन्दर चित्रों ने फिर से तरो ताज्जा कर दिए !
    सुन्दर वर्णन :):) यूँ ही लिखते रहें :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर वर्णन...धार्मिक यात्रा का जूनून ही अलग होता होगा...

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरा सरोकार है, इस समाज , देश और विश्व के साथ . जो मन में होता है आपसे उजागर कर देते हैं. आपकी राय , आलोचना और समालोचना मेरा मार्गदर्शन और त्रुटियों को सुधारने का सबसे बड़ा रास्ताहै.