शनिवार, 23 मार्च 2013

शहीद दिवस पर !

                     आज शहीद दिवस पर  तीनों अमर शहीदों को विनम्र श्रद्धांजलि ! 




                 नहीं जानती कि इस  दिन हमारी संसद में कोई इन तीनों भगत , सिंह राजगुरु और सुखदेव  के लिए दो शब्द भी बोल होगा क्योंकि संसद की कार्यवाही नहीं देखी, लेकिन अखबार देखे हैं  और देखे हैं सरकार के विज्ञापन .  हाँ उत्तर प्रदेश सरकार के वैचारिक गुरु   राम मनोहर लोहिया जी  की जयंती भी आज  है और उसका भी विज्ञापन देखा है . सपा मुखिया के परिजनों की तस्वीर  के साथ समाजवाद की दुहाई , लेकिन शहीदों को  नमन  करते नहीं देखा है.  अरे ये तो समझ लो ये विचारों की ईमारत जब बनने लगी तो उस नींव में जिनके बलिदान की ईंटे लगी हैं उनको तो नहीं भूलना चाहिए .  किसी एक कोने में भी सही उन शहीदों को नमन तो करना चाहिए .  ये राज्य का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं और कल देश के प्रतिनिधित्व का सपना देख  हैं और साथ ही देश के इतिहास को बदलने का दावा भी कर रहे है .

6 टिप्‍पणियां:

  1. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त

    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शहीदों को भुलाना कोई नई बात नहीं रह गयी है !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. hamare liye garv kee bat hai ki hamare blog world me aap jaise prabudhh blogar hain jo hame sahi rah chalate hain .veer shaheedon ko hamara bhi naman. आभार आपको होली की हार्दिक शुभकामनायें शख्सियत होने की सजा भुगत रहे संजय दत्त :बस अब और नहीं . .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब स्‍वयं के परिवार को ही शहीद मानते हों तब असली शहीद कहां याद रहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरा सरोकार है, इस समाज , देश और विश्व के साथ . जो मन में होता है आपसे उजागर कर देते हैं. आपकी राय , आलोचना और समालोचना मेरा मार्गदर्शन और त्रुटियों को सुधारने का सबसे बड़ा रास्ताहै.